Skip navigation.
कृण्वन्तो विश्वमार्यम्

SHRADDHA SOOKTA OF RIGVEDA

श्रद्धा सूक्त
(ऋषि: श्रद्धा कामायनी, देवता: श्रद्धा, छ्न्द: अनुष्टुप्)

श्रद्धयाग्निः समिध्यते श्रद्धया हूयते हविः।
श्रद्धां भगस्य मूर्धनि वचसा वेदयामसि॥

प्रियं श्रद्धे ददतः प्रियं श्रद्धे दिदासतः।
प्रियं भोजेषु यज्वस्विदं म उदितं कृधि॥

यथा देवा असुरेषु श्रद्धामुग्रेषु चक्रिरे।
एवं भोजेषु यज्वस्वस्माकमुदितं कृधि॥

श्रद्धां देवा यजमाना वायुगोपा उपासते।
श्रद्धां हृदय्य१याकूत्या श्रद्धया विन्दते वसु॥

श्रद्धां प्रातर्हवामहे श्रद्धां मध्यंदिनं परि।
श्रद्धां सूर्यस्य निम्रुचि श्रद्धे श्रद्धापयेह नः॥

-ऋ. १०.१५१

(वेद हमें तर्क शक्ति के साथ साथ श्रद्धा शक्ति से युक्त होने की प्रेरणा देते हैं| श्रद्धा अर्थात् सत्य में, शब्द प्रमाण में अविचल विश्वास|)

= भावेश मेरजा

ॐ..सुन्दर

ॐ..सुन्दर है आर्य्यवर ! अर्थ भी होता तो आनन्द ही आनन्द होता।