Skip navigation.
कृण्वन्तो विश्वमार्यम्

arya

१. ईश्वर - जिसके गुण, कर्म स्वभाव और स्वरूप सत्य ही हैं, जो केवल चेतनमात्र वस्तु है, तथा जो अद्वितीय, सर्वशक्तिमान्, निराकार, सर्वत्र व्यापक, अनादि और अनन्त आदि सत्यगुणवाला है, और जिसका स्वभाव अविनाशी, ज्ञानी, आनन्दी, शुद्ध, न्यायकारी, दयालु और अजन्मादि है, जिसका कर्म्म जगत् की उत्पत्ति, पालन और विनाश करना तथा सर्व जीवों को पाप पुण्य के फल ठीक ठीक पहुँचाना है, उसको 'ईश्वर' कहते हैं।
२. धर्म्म - जिसका स्वरूप ईश्वर की आज्ञा का यथावत् पालन और पक्षपातरहित न्याय सर्वहित करना है, जो कि प्रत्यक्षादि प्रमाणों से सुपरीक्षित और वेदोक्त होने से सब मनुष्यों के लिये यही एक मानना योग्य है उसको 'धर्म्म' कहते हैं।
३. अधर्म्म - जिसका स्वरूप ईश्वर की आज्ञा को छोड़कर और पक्षपातसहित अन्यायी होके विना परीक्षा करके अपना ही हित करना है, जो अविद्या हठ अभिमान क्रूरतादि दोषयुक्त होने के कारण वेदविद्या से विरुद्ध है, और सब मनुष्यों को छोड़ने योग्य है, वह 'अधर्म्म' कहाता है।
४. पुण्य - जसका स्वरूप विद्यादि शुभ गुणो का दान और सत्यभाषणादि सत्याचार करना है, उसको 'पुण्य' कहते हैं।
५. पाप - जो पुण्य से उल्टा और मिथ्याभाषणादि करना है, उसको 'पाप' कहते हैं।
६. सत्यभाषण - जैसा कुछ अपने आत्मा में हो और असम्भवादि दोषों से रहित करके सदा वैसा ही बोले, उसको 'सत्यभाषण' कहते हैं।
७. मिथ्याभाषण - जो कि सत्यभाषण अर्थात् सत्य बोलने से विरुद्ध है, उसको 'मिथ्याभाषण' कहते हैं।
८. विश्वास - जिसका मूल अर्थ और फल निश्चय करके सत्य ही हो, उसका नाम 'विश्वास' है।
९. अविश्वास - जो विश्वास से उल्टा है, जिसका तत्त्व अर्थ न हो, वह 'अविश्वास' कहाता है।
१०. परलोक - जिसमें सत्यविद्या से परमेश्वर की प्राप्ति हो, और उस प्राप्ति से इस जन्म वा पुनर्जन्म और मोक्ष में परमसुख प्राप्त होना है, उसको 'परलोक' कहते