Skip navigation.
कृण्वन्तो विश्वमार्यम्

साम वन्दना : धी उन्नति

ओ3म् उपह्वरे गिरीणां संगमे च नदीनाम|
धिया विप्रो अजायत ||साम 143 ||

पर्वत ‍ गोदी सरिता संगम, बल बुधि सिद्धि के संधाता|
तुम्हें बुद्धि ही विप्र बनाती, लो इससे जोड़ भक्त नाता||

गिरी‍ गिरा ज्ञान सहगामी गुरु,
नदि प्रणव नाद गतिगामि गुरु,
शरणागत सेवक को करते
धी उन्नति का उदयामी गुरु|

नित सदाचरण अनुशासित हों, श्रद्धा से शिष्य ज्ञान पाता|
तुम्हें बुद्धि ही विप्र बनाती, लो इससे जोड़ भक्त नाता||

तुम भले पर्वतों पर जाओ,
वहाँ न तुम आखेट रचाओ,
तुम गुरुओं की संगति पाओ
मत वहाँ प्रदूषण फैलाओ|

श्रुति अध्ययन और प्रवचन से, श्रुति सेवक स्वामी बन जाता|
तुम्हें बुद्धि ही विप्र बनाती, लो इससे जोड़ भक्त नाता||

नदियों के संगम पर जाओ,
केवल मेला नहिं लगाओ,
प्रभु नाद निनादित गुरुओं से
सीख नाद उन्माद भगाओ|

ज्ञान साधना प्रखर बनाकर, मानव मेधावी बन जाता|
तुम्हें बुद्धि विप्र बनाती, लो इससे जोड़ भक्त नाता||

(साम वन्दना)

दो शब्दों

दो शब्दों के बीच ‍डैश कैसे लगेगा

जैसे: गिरी गिरा (इन दोनों शब्दों के बीच डैश लगाना है)

आर्य

आर्य जी
सादर नमस्ते
सर्व‌ प्रथम तो आपका बहुत 2 धन्यवाद‌ | इतना सुन्दर वेदों का, इतना आकर्षक एवं इतना प्रेरणा दायक गुलदस्ता आप प्रस्तुत कर रहे हैं | प्रात: इनका गान कर लें ,एक बार मध्यान्ह में व एक बार सायंकाल में कर लें, तो वेद मन्त्र भी कण्ठस्थ होने लगेंगे, व कुछ ही दिनों में हम कितने ही वेद मन्त्रों से अच्छी प्रकार से परिचित हो जाएँगे, धनवान बन जाएँगे !
वैसे आप कौन से फांट का प्रयोग करते हैं ? चूँकि मैं Hinglish Typewriter का प्रयोग करता हूं तथा वहां इसकी सुविधा शायद नही है अतः वहाँ मैं English फान्ट में जाकर !, - का प्रयोग करता हूँ अथवा इसे मैमरी में रख कर प्रयोग करता हूँ | इस प्रकार कुछ असुविधाएँ तो हैँ |

आनन्द‌

मान्यवर

मान्यवर आनन्दजी, नमस्ते

जानकारी देने के लिये धन्यवाद | समझ गया जैसे : गिरी - गिरा

dhanyavaada

Rajendra P.Arya
9041342483
01672-239387