Skip navigation.
कृण्वन्तो विश्वमार्यम्

साम वन्दना : व्यक्तित्व विभूषित‌

ओ३म् अञ्‍जते व्यञ्जते समञ्जते क्रतुं रिहन्ति मध्वाभ्यञ्जते|
सिन्धोरुच्छ्वासे पतयन्तमुक्षणं हिरण्यपावा: पशुमप्सु गृभ्णते|| साम ५६४ ||

तन मलिन वस्त्र मत अस्त व्यस्त, मन भी उदास मत तेरा हो|
व्यक्तित्व विभूषित पथ प्रशस्त, मन ज्योतिमान का चेरा हो||

रहना सञ्जित विमल विसञ्जित,
तुम सम्यक शोभित संसञ्जित,
माधुर्य बिखेरो सभी ओर
अभिमान रहित हो अभि सञ्जित|

जग देख प्रफुल्लित हो जाये, जीवन सौन्दर्य बसेरा है|
व्यक्तित्व विभूषित पथ प्रशस्त, मन ज्योतिमान का चेरा हो||

बाहर जितना आकर्षण हो,
भीतर उतना संकर्षण हो,
कर्मों का मधुरिम स्वाद भरा
व्रत रत जीवन संकर्षण हो|

भीतर बाहर सुन्दरता हो, यज्ञों का श्वेत सवेरा हो|
व्यक्तित्व विभूषित पथ प्रशस्त, मन ज्योतिमान का चेरा हो||

ज्यों ही लेता तू प्रथम श्वास,
हो इच्छाओं का क्यों विकास,
पशु काम देव कर्मठता से
हो क्रोध नहीं तब आस पास|

गुण ज्योति प्रप्त कर प्रभु से तू, चमकीला किन्तु चितेरा हो|
व्यक्तित्व विभूषित पथ प्रशस्त, मन ज्योतिमान का चेरा हो||

साम वन्दना

साम वन्दना : व्यक्तित्व विभूषित‌
ViewEdit
ओ३म् अञ्‍जते व्यञ्जते समञ्जते क्रतुं रिहन्ति मध्वाभ्यञ्जते|
सिन्धोरुच्छ्वासे पतयन्तमुक्षणं हिरण्यपावा: पशुमप्सु गृभ्णते|| साम ५६४ ||

तन मलिन वस्त्र मत अस्त व्यस्त, मन भी उदास मत तेरा हो|
व्यक्तित्व विभूषित पथ प्रशस्त, मन ज्योतिमान का चेरा हो||

रहना सञ्जित विमल विसञ्जित,
तुम सम्यक शोभित संसञ्जित,
माधुर्य बिखेरो सभी ओर
अभिमान रहित हो अभि सञ्जित|

जग देख प्रफुल्लित हो जाये, जीवन सौन्दर्य बसेरा है|
व्यक्तित्व विभूषित पथ प्रशस्त, मन ज्योतिमान का चेरा हो||

बाहर जितना आकर्षण हो,
भीतर उतना संकर्षण हो,
कर्मों का मधुरिम स्वाद भरा
व्रत रत जीवन संकर्षण हो|

भीतर बाहर सुन्दरता हो, यज्ञों का श्वेत सवेरा हो|
व्यक्तित्व विभूषित पथ प्रशस्त, मन ज्योतिमान का चेरा हो||

ज्यों ही लेता तू प्रथम श्वास,
हो इच्छाओं का क्यों विकास,
पशु काम देव कर्मठता से
हो क्रोध नहीं तब आस पास|

गुण ज्योति प्रप्त कर प्रभु से तू, चमकीला किन्तु चितेरा हो|
व्यक्तित्व विभूषित पथ प्रशस्त, मन ज्योतिमान का चेरा हो||

‹ साम वन्दना : पावन गुण गायन‌ साम वन्दना : हे सोम‌ ›.By Rajendra P.Arya at 2011-06-25 20:46साम वन्दना