Skip navigation.
कृण्वन्तो विश्वमार्यम्

योगेश्वर श्री कृष्ण "तुम और हम"

प्रोफैसर उत्तम चन्द शरर जन्माष्टमि पर सुनाया करते थे:

तुम और हम

हम कहते हैं आदर्श था इन्सान था मोहन |
तुम कहते हो अवतार था, भगवान था मोहन ||

हम कहते हैं कि कृष्ण था पैगम्बरो हादी |
तुम कहते हो कपड़ों के चुराने का था आदि ||

हम कहते हैं जां योग पे शैदाई थी उसकी |
तुम कहते हो कुब्जा से शनासाई थी उसकी ||

हम कहते है सत्यधर्मी था गीता का रचैया |
तुम साफ सुनाते हो कि चोर था कन्हैया ||

हम रास रचाने में खुदायी ही न समझे |
तुम रास रचाने में बुराई ही न समझे ||

इन्साफ से कहना कि वह इन्सान है अच्छा |
या पाप में डूबा हुआ भगवान है अच्छा ||

राजेन्द्र आर्य
संगरूर‌

good one!! :)

good one!! :)

उत्तम चन्द

उत्तम चन्द शररजी की Audio Cassets ( ten cassets approx.)मेरे पास सुरक्षित हैं बहुत प्रभावशाली प्रवचन हैं ।

राजेन्द्र आर्य
संगरूर
9041342483