Skip navigation.
कृण्वन्तो विश्वमार्यम्

सफलता प्राप्त करने के लिए जरुरी है त्रिविध शक्ति :आइये इसको समझे...

मित्रो,आज जीवन में कौन सफल नहीं होना चाहता ,,हर व्यक्ति दुसरे से आगे बढ़ना चाहता है ,ऊंचा उठाना चाहता है ,सफल होना चाहता है ....इसमें कोई खराबी नहीं है ,प्रतिस्पर्धा की भावना से अपने अन्दर सुधार आता है लेकिन सही तरीके से.| कोई भी व्यक्ति सिर्फ चाहने से,बोल देने से सफल नहीं हो जाता उसके लिए उसे कठोर परिश्रम करना पड़ता है ....वेद में कहा गया है की सफलता प्राप्त करने के लिए त्रिविध शक्ति (शारीरिक,बौद्धिक,आत्मिक) की आवश्यकता है ....आइये इसपर विचार करे ..
कभी कभी इनमे से कोई एक या फिर दो होने पर भी सफलता मिल जाती है ...
शारीरिक बल :शारीरक बल से भी बहुत सारे कार्य सिध्द होते है ,जैसे यदि महाभारत का उद्धरण ले तो ध्यान दीजिये की चक्रव्यू की रचना कौरवो ने करी और उसका रक्षक ड्रोन जैसे महारथी को बनाया लेकिन अभिमन्यु अपनी वीरता और शारीरिक,बौद्धिक बल के द्वारा उसमे प्रवेश करने में सफल रहा ...इसलिए अपने शारीर को स्वस्थ रखना चाहिए
अब बात करते है बौद्धिक बल की ,बहुत से युद्ध हथियारों से नहीं बुध्धि से लड़े जाते है ये आप सभी जानते है ,यदि हम अपनी बुधि का सही प्रयोग न करे तो उसे कह दिया
जाता है strategy failure .| उद्धरण आप महाभारत के यक्ष-युधिष्ठिर संवाद का ले सकते है जहाँ युधिष्ठिर ने अपने बौद्धिक बल से अपने सारे भाइयो को बचाया था |
अब बात आती है आत्मिक बल की ,,,,इसे समझना बहुत जरुरी है.| हमे कहा बोलना है ,कब बोलना है ,कैसे बोलना है ये भी समझने की जरुरत है .जीवन में संयम का भी बहुत महत्व है ,यदि व्यक्ति अचानक बिना सोचे समझे कार्य कर दे तो वह मार खा सकता है इसलिए आपको आत्मिक रूप से मजबूत होना होगा .इसका उद्धरण आप श्री कृष्ण को ले सकते है जिन्हें योगिराज भी कहा जाता है
चाहे कितनी सफलता ही क्यों न मिल जाये हमेशा सज्जन रहे ,अपने व्यव्हार में शालीनता रहे,वाणी में मधुरता है रहे क्रोध में अनावश्यक निर्णय न करना यही है आपका आत्मिक रूप से मजबूत होना |
मित्रो जरा विचार करें और अपने लक्ष्य को सोचे ,और देखे ,विश्लेषण करे की क्या आप अपने लक्ष्य की और बढ़ रहे हो??क्या आप जिस रस्ते पर चल रहे हो वह आपकी मंजिल तक पहुचता है ???क्या आपके पास वो त्रिविध शक्ति है जिससे आप अपनी मंजिल को हासिल करोगे??? सिर्फ ऊंचे सपने देखने से सपना सच नहीं हो जाता ,उस पर कठोर परिश्रम करें ,सोचे और विचार करें....
ब्रह्मदेव वेदालंकार
(09350894633)
visit other articles
आप क्यों डरते है ?किससे डरते है ?आप कमजोर है ??

सूर्य को पूजना छोड़ कर उसके सन्देश को ग्रहण करो ,पर क्या है सन्देश?
क्यों करे अच्छे लोगो का संग??क्या है अच्छे विचारों का महत्व ??
जिंदगी से शिकायत नहीं ,धन्यवाद करे ,पर क्यों ????
जिंदगी में निराशा???

त्रिविध

त्रिविध शक्ति : शारीरिक, बौद्धिक, आत्मिक बल से सफलता प्राप्त की जा सकती है परन्तु वर्तमान में कुछ परिक्षायें ऐसी हैं जिनमें बौद्धिक बल से ही काम लेना पड़ता है शारीरिक और आत्मिक बल की अवहेलना करनी पड़ती है, दिन में ध्वनी प्रदुषण बहुत होता है और सारी सारी रात बौद्धिक बल के प्रयोग से पढ़ना पड़ता है जैसे सी.ए. की परिक्षा ।

राजेन्द्र आर्य‌