Skip navigation.
कृण्वन्तो विश्वमार्यम्

हिम्मत करने वालो की हार नहीं होती

मै कल इस कविता को पढ़ रहा था,आपसे भी इसको share कर रहा हू....
हरिवंशराय बच्चन जी ने बहुत ही अच्छी और प्रेरणादायक कविता लिखी है ,हम सभी इससे सीख लें.....read complete article at my blog
लहरों से डर कर नौका पार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।
नन्हीं चींटी जब दाना लेकर चलती है,
चढ़ती दीवारों पर, सौ बार फिसलती है।
मन का विश्वास रगों में साहस भरता है,
चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है।
आख़िर उसकी मेहनत बेकार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है,
जा जा कर खाली हाथ लौटकर आता है।
मिलते नहीं सहज ही मोती गहरे पानी में,
बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में।
मुट्ठी उसकी खाली हर बार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।

असफलता एक चुनौती है, इसे स्वीकार करो,
क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो।
जब तक न सफल हो, नींद चैन को त्यागो तुम,
संघर्ष का मैदान छोड़ कर मत भागो तुम।
कुछ किये बिना ही जय जय कार नहीं होती,
कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती।
-हरिवंशराय बच्चन

Bahut prernaprda kavita hai,

Bahut prernaprda kavita hai, dhanyavad

bahut sundar kavita aur

bahut sundar kavita aur usase jyada apaka purusharth.