Skip navigation.
कृण्वन्तो विश्वमार्यम्

KO-AHAM - WHO AM I

62 में से 33
Brig Chitranjan Sawant,V.INDIA-CHINA FOUGHT A WAR FIFTY YEARS AGO - AUM INDIA-CHINA FOUGHT FIFTY YEARS AGO By Brigadier Chitranjan Sawant,VSM ILL ARMED, ILL CLOTHED, ILL 29 जुलाई
Gilberto ChapaGet your degree in just 2 weeks . BA/BSc /MA/MSc/MBA/ PhD. No books or tests. Completel... - Get your degree in just 2 weeks . BA/BSc /MA/MSc/MBA/ PhD. No books or tests. Completely legal method 28 जुलाई
Vaanaprastha Saadhak Aas.acharya ji videsh yatra - -- वानप्रस्थ साधक आश्रम आर्यवन, रोजड पो.-सागपुर, जिला - साबरकांठा गुजरात, पिन - ३८३ ३०७ दूरभाष ९१-28 जुलाई
Mohan Guptaमस्तिष्क की धुलाई का सबसे प्रभावशाली माध्यम है "हमारी फिल्म इंडस्ट्री" + The English Pl... - मस्तिष्क की धुलाई का सबसे प्रभावशाली माध्यम है "हमारी फिल्म इंडस्ट्री" मुसलमानों द्वारा26 जुलाई
GYour email ID has been awarded of 23 जुलाई
sawantg.chitranjan@gmail.sawantg.chitranjan@gmail.com has shared: Hindus must increase numbers to wield politica... - AUM Let us be Dharmik for a change. Abandon Secularism, the much prostituted idea. Chitranjan Sawant 21 जुलाई
Mohan Guptaआरक्षण समाप्त करना है तो……… Those who have not full faith in Indian - आरक्षण समाप्त करना है तो……… Those who have not full faith in Indian Those who have not full faith in 20 जुलाई
Chitranjan SawantHINDI ARTICLE BY SUDHA SAWANT FOR THE MAHASAMMELAN SOUVENIR,IF EDITOR APPROVES. - 1 of 1905 > Vaanaprastha Saadhak Aas.videsh patra - समादरणीय सादर नमस्ते जून मास में आचार्यजी द्वारा विदेश यात्रा के दौरान सिंगापुर में लिखा हुआ पत्र11 जुलाई
Pam, मैं (2)Hindi version of the meaning of Nirvana Shatakam (Shivoham) - AUM Aadarniya Pramila Kapoor Ji, Namaste. Thanks indeed for your mail and appreciation of my article, 30 जून
vibha caleHello - Namaste Sudha ji It's very good the way u explain things for a layman. Keep it up. I forwrd them 29 जून
मैं, Posterous (2)BE HAPPY BE HEALTHY - This is a private email. Please do not forward. Welcome to Posterous Spaces! We think e-mail is the 15 जून
Brig Chitranjan Sawant,V.ARTICLE IN HINDI ON MAHARISHI DAYANAND SARASWATI. - aum NAMASTE KEWAL AHLUWALIA JI. Thanks indeed for your mail asking me for an English version of my 22 मई
Vibha AryaThese Remind me My Old days in Bharat(3)21 मई
Vibha AryaThese Remind me My Old days in Bharat(2)21 मई
Vibha, मैं (2)These Remind me My Old days in Bharat .(1) - AUM Priya Vibha Arya Ji, Namaste. Aap ko sabhi photos bhejne ke liye dhanyavad. Hum sabhi ko achchi21 मई
Brig Chitranjan Sawant,V.PICTURES OF PARADISE ON EARTH -THE YOG GRAM THAT HELPS MAKEOVER BODY AND SOUL - DEAR EDITOR Merinews.com Sir, Here you find some pictures of the Yoga Gram where men and women go for28 अप्रैल
मैं, rati (3)Sudha's article for your reading pleasure - AUM Dear Rati Namaste. I just saw your mail. Indeed there are Ved mantras and shlokas from Gita that 26 अप्रैल
मैं, rati (2)Sudha's article for your reading pleasure. - Respected Sudha aunty, Hari Om! Thank you for taking time out to send me the article. Its written 26 अप्रैल
Brig Chitranjan Sawant,V.GO YOGA GRAM FOR KAYA KALP - AUM GO YOGA GRAM FOR KAYA-KALP By Brigadier Chitranjan Sawant,VSM Swami Ramdev ji readily agreed to 25 अप्रैल
Chitranjan SawantVEGETARIANISM BREEDS UNIVERSAL LOVE, PREVENTS GLOBAL WARMING AND SAVES US. - AUM BE A VEGETARIAN AND PROTECT PLANET EARTH By Brigadier Chitranjan Sawant,VSM In India that is 18 अप्रैल
Brig Chitranjan Sawant,V.BHARAT KA RASHTRA GAAN VIVADON KE BEECH - AUM JANA GANA MANA : INDIAN NATIONAL ANTHEM By Brigadier chitranjan Sawant,VSM The Indian National 14 अप्रैल
sawantg.chitranjanNYTimes.com: Why Trees Matter - The New York Times This page was sent to you by: sawantg.chitranjan@gmail.com OPINION | April 12, 12 अप्रैल
Google + टीमGoogle+ पर आरंभ करना - Google+ पर जाएं नमस्ते Sudha, Google+ में आपका स्वागत है - हमें बहुत खुशी है कि आप यहां हैं! आरंभ 6 अप्रैल
मैंLET US BE HAPPY AND GAY - AUM. LAUGHTER MAKES ME HAPPY AND GAY By Chitranjan Sawant Are you giggling at the word Gay? Don't 6 अप्रैल
मैंGITA ENRICHES LIFE - ओ3म् श्रीमद् भगवद्गीता को पढें ,समझें और जीवन सवारें सुधा सावंत कहते हैं जो पुस्तक जितनी ज्ञान से भरी 5 अप्रैल
मैंENCOURAGE INQUISITIVENESS IN CHILDREN LEST DEVELOPMENT OFPERSONALITY IS STUNTED. - ओ3म् मेरे अनुभव सुधा सावंत बच्चो की जिज्ञासा को प्रोत्साहन कभी कभी पढ़ी हुई बातो को प्रत्यक्ष होते 15 फरवरी
Chitranjan SawantABHAYAM - AUM ABHAYAM-FEAR NOT By Chitranjan Sawant As a human being we should be friendly with other human 27-1-10
Brigadier Chitranjan Saw.SUB: NON PAYMENT OF EPF DUES EVEN 5 YEARS AFTER RETIREMENT - Dear Sir/Madam, My name is Mrs. Sudha Sawant. I retired from the Amity International School, sector- 20-1-10
Development AlternativesDeveloping Organisational Leadership with TQM for Organisational Development - You may also view this online by clicking here A non-profit organisation established in 1983 creating 16-1-10
Chitranjan SawantProgress of Arya Samaj - AUM HOPE 'n HELP POST EARTHQUAKE By Brigadier Chitranjan Sawant,VSM Lovely complex indeed. There 23-12-09
Brig Chitranjan Sawant,V.Sudha Sawant's Article for your werbsite article library. - AUM Aadarniya Vachonidhi Arya Ji, Namaste. It was a wonderful experience at the Jeevan Prabhat where 22-12-09
Brig Chitranjan Sawant,V.KOHUM-APNE KO PAHCHANE-KIND ATTN. SAMPADAK VAIDIK SARVADESHIK. PRAKASHAN KE LIYE ANUROD... - ओ3म् अपने को पहचानें – कोSहम् सुधा सावंत, एम ए, बी एड कहने को बड़ा अटपटा सा प्रश्न है, - कौन हूं मैं 15-12-09
Chitranjan SawantYOG SE BHARAT SWABHIMAN - ओ3म् योग से भारत स्वाभिमान ब्रिगेडियर चितरंजन सावंत, वी.एस.एम महर्षि पतंजलि का अष्टांग योग मानव समाज 6-12-09
Brig Chitranjan Sawant,V.योग से भारत स्वाभिमान - ओ3म् योग से भारत स्वाभिमान ब्रिगेडियर चितरंजन सावंत, वी.एस.एम महर्षि पतंजलि का अष्टांग योग मानव समाज 6-12-09
Brig Chitranjan Sawant,V.Obama's War is our War - AUM. OBAMA'S WAR IS OUR WAR By Brigadier Chitranjan Sawant,VSM President Barrack Obama chose the 3-12-09
Gaurav Sawantbrigadier chitranjan sawant in conversation with Baba Ramdev - AUM! Dear Daddy, your pictures in conversation with baba ramdev - scanned and mailed. with warm1-12-09
Chitranjan SawantVED MANTRAS PROMOTE ECOLOGY - ओ3म् पर्यावरण प्रोत्साहन वेद मंत्रो द्वारा ब्रिगेडियर चितरंजन सावंत, वी.एस.एम सन् 1900 में गुरूकुल की 14-11-09
Chitranjan SawantFwd: VANDE MATARAM-THE SONG OF INDIA. IT GALVANIZED THE NATION AND THREW THE BRITISH MA... - Forwarded message From: Brigadier Chitranjan Sawant,VSM sawantg.chitranjan@gmail.Check out Talking to teenagers 6-11-09
sawant.chitranjanA washingtonpost.com article from: sawant.chitranjan@gmail.com - E-mail This page was sent to you by: sawant.chitranjan@gmail.com Message from sender: AUM Just an 27-10-09
Chitranjan SawantBBC E-mail: 'Younger wife' for marital bliss - Chitranjan Sawant saw this story on the BBC News website and thought you should see it. ** ' 26-10-09
Brig Chitranjan Sawant,V.Fw: Future of Pakistan - Forwarded Message From: "Brigadier@tachyon.in" To: 20-10-09
Chitranjan SawantWaziristan War - AUM WAZIRISTAN WAR : DEFEAT AND VICTORY By Brigadier Chitranjan Sawant,VSM The Waziristan war has 19-10-09
Kaushik, मैं (2)NA DARO MRITYU SE ; AATMA AMAR HAI - AUM Namaste Kaushik Joshi Ji. Sarahana ke liye dhanyavad. Sudha Sawant. 2009/10/12 Kaushik Joshi < 12-10-09
Chitranjan SawantLAW IS ABOVE YOU - AUM LAW IS ABOVE YOU By Brigadier Chitranjan Sawant,VSM When I passed the examination for the degree 12-10-09
धर्म, मैं (4)welcom dharmareporter.com - AUM Namaste Ji. Aap ka patra aaj dekha. Ab vilamb ho gaya hai. Anurodh hai ki Arya Samaj se 12-10-09
Om sapraRe: Re: good article - sudha ji thanks. i am sending one literary magazine by post. this is being published my a friend of 11-10-09
मैंNa Daro Mrityu se: Atma Amar Hai - न डरो मृत्यु से : आत्मा अमर है सुधा सावंत, एम ए, बी एड विद्यालय में पढ़ते समय एक कविता पढ़ी थी, उसकी 11-10-09
मैं (2)न डरो मृत्यु से : आत्मा अमर है - अग्रेषित संदेश प्रेषक: sudha sawant दिनांक: 11 11-10-09

KOHUM-APNE KO PAHCHANE-K​IND ATTN. KE
इनबॉक्सx

15-12-09

ओ3म्अपने को पहचानें – कोSहम् सुधा सावंत, एम ए, बी एड
कहने को बड़ा अटपटा सा प्रश्न है, - कौन हूं मैं – और उत्तर उससे भी विचित्र – एक यात्री। पर सच मे हम यात्री हैं ज्ञान पथ के । हमारी यात्रा अज्ञान से ज्ञान की ओर है। अंधकार से प्रकाश की ओर है। असत्य से सत्य की ओर है और मृत्यु से अमरता की ओर है। तभी तो हम प्रार्थना करते है –असतो मा सद् गमय।तमसो मा ज्योतिर्गमय।मृत्योर्मा Sमृतम् गमय ।।हम ईश्वर से प्रार्थना करते है कि हे प्रभो, मुझे असत्य से सत्य की ओर ले चलिए, अंधकार से प्रकाश की ओर ले चलिए, मृत्यु से अमरता की ओर ले चलिए। हमारी यात्रा ज्ञान प्राप्त करने की, आत्मा के अपने गंतत्य परमात्मा तक पहुंचने की यात्रा है। जन्म रास्ते में आने वाले अनेक पड़ावो की तरह हैं। हमारे संबंधी, मित्र, शत्रु, सब यात्रा में चलने वाले यात्रियों के समान हैं।चलिए मान लेते हैं कि हम एक आन्तरिक, आध्यात्मिक यात्रा पर निकले पथिक हैं। तो यात्रा की तैयारी क्या करें। सुनिए हम किसी नए शहर में जाते हैं, तो वहाँ का मानचित्र ले लेते हैं। उस शहर में कौन कौन से दर्शनीय स्थल हैं। कौन सा मार्ग किस स्थान तक ले जाएगा, उसे देखते देखते मार्ग का अनुसरण करते हुए अपने गंतव्य तक पहुंचते हैं। दर्शनीय स्थलों को देखकर, लोगो से मिलकर यात्रा को सफल मानते हैं। ठीक ऐसी ही हमारी जीवन-यात्रा है। समस्त ज्ञान के मूल स्रोत वेद आदि ग्रंथ जीवन पथ के मार्गदर्शक मानचित्र के समान हैं। वेदो के द्वारा बताए गए मार्ग पर चलकर हम आसानी से आत्म साक्षात्कार कर सकते हैं और परमात्मा के स्वरूप को तत्वत: जान सकते हैं। ऋग्वेद में एक मंत्र है: द्वा सुपर्णा सयुजा सखाया समानं वृक्षं परि षस्वजाते।तयो रन्य: पिप्पलं स्वाद्वत्त्यनश्नन्नन्यों अभि चाकशीति ।।दो सुंदर पक्षी जो सहयोगी हैं, परस्पर मित्र हैं। एक ही वृक्ष पर मज़े से बैठे हुए हैं। इन दोनो में से एक इस वृक्ष के फल को खाता है और दूसरा पक्षी न खाता हुआ, अध्यक्षता का काम करता है ।मंत्र के अनुसार वृक्ष प्रकृति का परिचायक है और दो पक्षी परमात्मा और जीवात्मा के परिचायक हैं। तीनों नित्य हैं शाश्वत हैं। बस तीनो की विशेषताएं अलग अलग हैं। प्रकृति जड़ है, एक पक्षी जो फल खाता है वो जीव है और जो फल नही खाता है - वह ईश्वर है, नियंता है, अध्यक्ष है। केवल सबकी क्रियाओं की जानकारी रखता है। उसे कर्म फल नही भोगना पड़ता है। इस मंत्र के सहारे हम अनेक बातें सीखते हैं कि हम जीवात्मा हैं। जो काम करेंगे उसका अच्छा या बुरा फल भोगना पड़ेगा। अत: अच्छे काम करें। सावधानी से करें अन्यथा काम बिगड़ सकता है। ईश्वर अध्यक्ष है तो उन्हें अपना काम अच्छे से अच्छे ढंग से करके दिखाएं। गर्व न करें क्योकि हमारा ज्ञान तो सीमित है, हमारे अध्यक्ष का ज्ञान असीमित है। हां, हम भी अपने ज्ञान को निरंतर बढ़ा सकते हैं। यजुर्वेद में एक अन्य मंत्र भी बहुत अच्छा है जो इस प्रकार है – विद्यां च अविद्यां च यस्तद्वेदोभयम् सह।अविद्यया मृत्युं तीर्त्वा विद्ययाSमृतमश्नुते।।विद्या और अविद्या को जो व्यक्ति ठीक से साथ साथ समझता है वो अविद्या के द्वारा मृत्यु को पार करके विद्या के द्वारा अमरता या अमृत को प्राप्त करता है। यहां विद्या परमात्मा, जीवात्मा विषयक अर्थात चेतन तत्व का ज्ञान है और अविद्या प्रकृति अर्थात जड़ तत्व विषयक ज्ञान है। अविद्या अज्ञान नहीं है। इसे हम भौतिक विज्ञान या रसायन शास्त्र आदि के रूप में प्राप्त करते हैं। हम डॉक्टर या ईंजीनियर तो बन जाते हैं लेकिन केवल अपने स्वार्थ के लिए काम करते हैं – परमार्थ के लिए नही। कुछ डॉक्टर बनने के बाद भी दूसरो के शरीर के अंग निकाल कर बेच देते हैं। या दवाईंयो में मिलावट करते हैं। दूसरों की सुविधा नही देखते – केवल अपना स्वार्थ देखते हैं। तब यह किताबी ज्ञान अविद्या बन कर रह जाता है क्योकिं इसमें स्वार्थ होता है परोपकार नही। क्योंकि हमने अध्यात्म का ज्ञान प्राप्त नही किया। विद्या के द्वारा आध्यात्मिक ज्ञान से संबंधित पुस्तको को पढ़कर, अच्छे गुरू के समीप रह कर हमें अच्छे संस्कार मिलते हैं और चेतन तत्व के बारे में जानकारी भी मिलती है।आपने नचिकेता की कहानी पढ़ी होगी। नचिकेता के पिता वाजश्रवा स्वर्ग सुख प्राप्त करना चाहते थे। अत: ऋषियों से यज्ञ करवाया। पहले तो सोचा था कि यज्ञ के पूरा हो जाने पर ऋषियों और ब्राह्मणों को बहुत सा दान देंगे। दुधारु गाएं देंगे। परंतु यज्ञ के पूरा होने पर ब्राह्मणों को बूढ़ी गायें देना शुरु कर दिया। लोग दबी आवाज़ में वाजश्रवा की निंदा करने लगे। बालक नचिकेता यह सह न सके। उन्होनें पिता जी से पूछा ``पिताजी आप मुझे किसे दान में देंगे ? आपकी सबसे प्रिय वस्तु तो मैं हूं।’’ पहले तो पिता नें इस पर ध्यान नहीं दिया। बार बार पूछे जाने पर गुस्से से कहा – जा मैंने तुझे मृत्यु के देवता यमराज को दान दिया। बालक नचिकेता ईश्वर भक्त था,विनम्रता पूर्वक बोला – पिताजी मुझे यमराज के पास जाने की अनुमति दीजिए। अब पिता को अपनी भूल का पता चला। नचिकेता यमराज के पास पहुंचे और तीन वरदानों में से एक वरदान के रूप में आत्मज्ञान प्राप्त करने की इच्छा व्यक्त की। यमराज ने सोचा यह अभी बालक है पता नहीं आत्मज्ञान प्राप्त करने के योग्य है भी या नहीं। इसलिये यमराज ने नचिकेता को बहुत सा धन संपत्ति देने का लालच दिया। हाथी, घोड़े, महल, राज्य सबकुछ देने के लिए कहा। परंतु नचिकेता पर इन प्रलोभनों का कोई प्रभाव नहीं पड़ा। उन्होनें विनम्रता पूर्वक यमराज से कहा कि यह सभी वस्तुएं उन्हे केवल भौतिक सुख दे सकती हैं – आत्मिक शांति नहीं। इसलिए वे आत्मज्ञान ही प्राप्त करना चाहते हैं। यमराज ने कहा संसार में दो तरह का ज्ञान है – श्रेय का और प्रेय का। श्रेय आत्मज्ञान है और प्रेय सासांरिक सुख भोग को प्राप्त करने का ज्ञान है। धैर्यवान व्यक्ति प्रेय के स्थान पर श्रेय का चुनाव करते हैं। श्रेयो हि धीर: अभि प्रेयो वृणीते,प्रेयो मंदो योगक्षेमात् वृणीते ।।संसारिक सुख चाहने वाले व्यक्ति अपने को केवल शरीर के रुप में ही पहचानते हैं। उन्हें पता नही कि शरीर तो उन्हें साधन के रुप में मिला है। शरीर के माध्यम से वे अपने चेतन आत्मरुप को पहचान सकें। नचिकेता क्योंकि आत्म ज्ञान प्राप्त करने के लिए आग्रह कर रहा था तो उन्होनें कहा – हे नचिकेता यदि तुम अपने शरीर को रथ के रूप में मानो तो इंद्रियां घोड़ों के समान हैं। मन लगाम की तरह है और बुद्धि सारथी के समान है। आत्मा इस रथ में बैठे यात्री के समान है। आत्मा की यात्रा परमात्मा को पहचानने की है। इस प्रकार हम सभी जीवात्मा यात्री हैं और परमात्मा तक पहुंचना चाहते हैं। ________________________________________________________ सुधा सावंत, एम ए बी एड609, सेक्टर 29 अरूण विहारनोएडा – 201 303. भारतई मेल sanskrit.sudha@gmail