Skip navigation.
कृण्वन्तो विश्वमार्यम्

यज्ञ समिधा

यज्ञ समिधा

हवन कार्य में प्रयुक्त वस्तुएं

जो लकड़ी जलने पर दुर्गन्ध और धुआं न दे, वही लकड़ी यज्ञ समिधा का काम उत्तम प्रकार से दे सकती है.
जैसे पलाश (ढाक) , शमी ( जांड), अश्वत्थ (पीपल), वाट (बड़), उदुम्बर (गुलर), आम्र (आम), बिल्व (बेल) आदि.

अफगानिस्तान, बलोचिस्तान आदि देशों में बादाम की लकड़ी भी यज्ञ समिधा में उत्तम प्रकार से उपयोग में आ सकती है.
इंग्लॅण्ड आदि देशों में शाहबलूत (ओक) की लकड़ी ...की समिधाएँ भी बन सकती है.
जर्मनी में लेवेंडर तथा भारत और इटली में सफेदा ( yucaliptas ) की लकड़ी भी इसी उपयोग में आ सकती है.

समिधा चयन में सावधानी

समिधाएँ वेदी के परिमाणानुसार छोटी बड़ी कटवा लेवें परन्तु वे कीड़ा लगी, मलिन देशोत्पन्न और अपवित्र पदार्थ आदि से दूषित न हों.

अच्छे प्रकार देख लेवें और चारो ओर बराबर कर बीच में से चुने.

Sender:
Rajendra P.Arya
Sangrur (Punjab)
Mobile: 9041342483