Skip navigation.
कृण्वन्तो विश्वमार्यम्

राम नवमी आ गई

राम नवमी आ गई
राम जी के गीत गाओ राम नवमी आ गई !
प्रेम की गंगा बहाओ राम नवमी आ गई !
राम जी का जन्म हुआ देश भारतवर्ष में !
नाच उठे लोग सभी मग्न हुए हर्ष में !
झूम के खुशीयां मनाओ राम नवमी आ गई ! राम जी के .......
भूल के माता पिता का हुकम नहीं टालना !
जान की बाजी लगा के वचन सदा पालना !
धर्म की बातें सुनाओ राम नवमी आ गई ! राम जी के......
सभ्य हो विनम्र हो गुरुजनों का प्यार लो !
राम के गुणों से अपने जन्म को सुधार लो !
कौम को ऊँचा उठाओ राम नवमी आ गई ! राम जी के......
हर किसी इंसान से इनसाफ किया राम ने !
पाप को बढ़ने नहीं दिया नजर के सामने !
आप भी कुछ कर दिखाओ राम नवमी आ गई ! राम जी के....
अपनी जन्म भूमि का अपमान सहेंगे नहीं !
उलझनों को देख के खामोश रहेंगे नहीं !
रन की सौगंध खाओ राम नवमी आ गई ! राम जी के....
मिल के रहो मिलके चलो मिलके ही विचार लो !
जो बिछुड गए हैं उन्हें प्यार से पुकार लो !
“पथिक” दीवारें गिराओ राम नवमी आ गई ! राम जी के.....
(पथिक भजन वाटिका) प्रेषक : राजेन्द्र आर्य , संगरूर ( चलभाष : ९०४१३४२४८३ )