Skip navigation.
कृण्वन्तो विश्वमार्यम्

नर तन तुम्हें निरोग मिला (Pathik)

ये नर तन तुम्हें निरोग मिला, सत्संग का भी योग मिला।
फिर भी प्रभु कृपा अनुभव करके यदि भवसागर तुम तर न सके।
फिर मत कहना कुछ कर न सके।।

तुम सत्य तत्त्व ज्ञानी होकर, तुम सहधर्मी ध्यानी होकर।
... तुम सरल निरभिमानी होकर, कामना विमुक्त विचर न सके।
फिर मत कहना कुछ कर न सके।।१।।

जग में जो कुछ भी पाओगे, सब यही छोड़कर जाओगे।
पछताओगे आगे यदि तुम अपना पुण्यों से जीवन भर न सके।
फिर मत कहना कुछ कर न सके।।२।।

जो सुख सम्पत्ति में भूल रहे, वो वैभव मद में फूल रहे।
उनसे फिर पाप डरेंगे क्यों, जो परमेश्वर से डर न सके।
फिर मत कहना कुछ कर न सके।।३।।

जब अन्त समय आ जायेगा, तब तुम से क्या बन पायेगा।
यदि समय शक्ति के रहते ही आचार-विचार सुधर न सके।
फिर मत कहना कुछ कर न सके।।४।।

होता जब तक न सफल जीवन, है भार रूप स बतन-मन-धन।
यदि ‘पथिक’ प्रेम पथ पर चलकर अपना या पर दुःख हर न सके।
फिर मत कहना कुछ कर न सके।।५।।

Posted:
Rajendra P.Arya
Sangrur (Punjab)
9041342483