Skip navigation.
कृण्वन्तो विश्वमार्यम्

sp

सत्यार्थ प्रकाश न पढ़नेवाला ज्ञान के क्षेत्र में अन्धा है **