Skip navigation.
कृण्वन्तो विश्वमार्यम्

महर्षि दयानन्द कृत आर्याभिविनयः से (21)

प्रार्थना विषय

तद्विष्णो परमं पदं सदा पश्यन्ति सूरयः |
दिवीव चक्षुराततम् ||21||
ऋ. 1|2|7|20||

व्याख्यान -

हे विद्वानो और मुमुक्षु जीवो ! विष्णु का जो परम अत्यन्तोत्कृष्ट् पद (पदनीय‌) सबके जानने योग्य, जिसको प्राप्त होके पूर्णानन्द में रहते हैं फिर वहाँ से शीघ्र दुःख में नहीं गिरते, उस पद को "सुरयः" धर्मात्मा, जितेन्द्रिय, सबके हितकारक विद्वान लोग यथावत् अच्छे विचार से देखते हैं वह परमेश्वर का पद है किस दृष्टान्त से कि जैसे आकाश में "चक्षुः" नेत्र की व्याप्ति वा सूर्य का प्रकाश सब और से व्याप्त है वैसे ही 'दिवीव‌ चक्षुराततम्' परब्रह्म सब जगह में परिपूर्ण एकरस भर रहा है | वही परमपदस्वरूप परमात्मा परमपद है इसी की प्राप्ति होने से जीव सब दुखों से छूटता है अन्यथा जीव को कभी परमसुख नहीं मिलता | इससे सब प्रकार परमेश्वर की प्राप्ति में यथावत् प्रयत्न करना चाहिए ||21||